Akhilesh yadav से ममता ने कहा आप Up में BJP को शून्य कर दो हम बंगाल में कर देंगे

Akhilesh yadav से ममता ने कहा आप Up में BJP को शून्य कर दो हम बंगाल में कर देंगे

Akhilesh yadav से ममता ने कहा आप Up में BJP को शून्य कर दो हम बंगाल में कर देंगे-पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में विपक्ष की यूनाइटेड इंडिया रैली में बोलते हुए Akhilesh yadav ने कहा कि,

वह लोग जो विपक्ष के एकमंच पर आने को लेकर निशाना साध रहे हैं

उन्हें BJP की तरफ देखना चाहिए जिस BJP ने 40 पार्टियों के साथ लोकसभा चुनाव लड़ा है।

MODI Sarkar पर निशाना साधते हुए Akhilesh yadav कहा कि,

चुनाव आ रहे हैं देखते रहिए भाजपा ED, और CBI से भी गठबंधन करेगी।

Akhilesh yadav के बोलने के बाद मंच संचालन कर रहीं पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने-“Akhilesh yadav से ममता ने कहा आप Up में BJP को शून्य कर दो हम बंगाल में कर देंगे”uniteduiuni

ममता बनर्जी के यह कहते ही वहाँ मौजूद भीड़ ने तालियाँ बजाकर मुख्यमंत्री की बात का स्वागत किया।

महारैली में दिखी विपक्षी एकता

कोलकाता में CM ममता बनर्जी की अगुवाई में PM Modi और उनकी सरकार के फैलाए-

साम्प्रदायिकता, अन्याय, अत्याचार, ग़रीबी, बेरोज़गारी के ख़िलाफ़ पूरा विपक्ष एकजुट हुआ है।

भीड़ ऐसी है कि देखने वाले देखते रह जाएँ।

इस महारैली में ममता बनर्जी, Akhilesh yadav, मल्लिकार्जुन खड़गे, तेजस्वी यादव, अरविंद केजरीवाल,

उमर अब्दुल्लाह, फ़ारूक़ अब्दुल्ला, शरद पवार, बीजेपी के शत्रुध्न सिंह, बीजेपी के बाग़ी, अरुण शौरी, यशवंत सिंहा,

शरद एचडीकुमार स्वामी, बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा और कांग्रेस के प्रतिनिधि भी मौजूद हैं।

राफेल डील से देश को घाटा

THE HINDU में छपी एन राम की रिपोर्ट से तो यही लगता है।

एन राम कहते हैं कि प्रति विमान 41.42 प्रतिशत अधिक दाम देकर खरीदे जा रहे हैं।

इस रिपोर्ट को पढ़ने के बाद लगता है कि कीमतों को लेकर संसद में हुई बहस अंतिम नहीं है।

मोदी सरकार का तर्क रहता है कि भारत और फ्रांस के बीच जो करार हुआ है

उसकी गोपनीयता की शर्तों के कारण कीमत नहीं बता सकते।

मगर उस करार में कहा गया है कि गोपनीयता की शर्तें रक्षा से संबंधित बातों तक ही सीमित हैं।

यानी कीमत बताई जा सकती है। कीमत क्लासिफाइड सूचना नहीं है।

विवाद से पहले जब डील हुई थी तब सेना और सिविल अधिकारियों ने मीडिया को ब्रीफ किया था और बकायदा कीमत बताई थी।

एन राम बताते हैं कि जब 2007 में दास्सों एविशन को लंबी प्रक्रिया के बाद चुना गया तब यही तय हुआ कि

18 विमान सुसज्जित अवस्था में आएंगे और 108 हिन्दुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड तैयार करेगा।

उस वक्त दास्सों ने एक विमान के लिए 79.3 मिलियन यूरो मांगा था।

2011 में यह कीमत 100.85 मिलयन यूरो हो गई।

बेशक 2016 में 2011 की कीमतों के अनुसार 9 प्रतिशत की छूट मोदी सरकार ने हासिल कर ली

मगर वो छूट 126 विमानों के लिए नहीं, 36 विमानों के लिए थी।

एक विमान की कीमत तय हुई 91.75 मिलियन यूरो।

राफेल डील लगातार विवादो में

यह पूरी कहानी नहीं है कहानी का बड़ा और दूसरा हिस्सा यह है

कि दास्सों ने कहा कि भारत के हिसाब से विमान को सुसज्जित करने के लिए 1.4 बिलयन यूरो और देने होंगे।

भारत ने मोलभाव कर इसे 1.3 बिलियन यूरो पर लाया।

भारतीय वायु सेना की मांग थी कि राफेल विमान को 13 विशेषताओं से लैस होना चाहिए

ताकि भारत की ज़रूरतों के अनुकूल हो।

इसके लिए 36 विमानों के लिए 1.3 बिलियन यूरो देने पर सहमति हुई।

इस हिसाब से प्रति विमान की कीमत होती है 36.11 मिलियन यूरो।

2007 में इसकी कीमत थी 11.11 मिलयन यूरो।

वायु सेना के जिन विशेषताओं की मांग की थी उनमें यूपीए और मोदी सरकार के समय कोई बदलाव नहीं आया था।

Sending
User Review
0 (0 votes)

Leave a Comment