मोदी सरकार में चेहतों को लाभ पहुचाने के लिए हुआ 70,000 करोड़ का स्पेक्ट्रम घोटाला: काँग्रेस

मोदी सरकार में चेहतों को लाभ पहुचाने के लिए हुआ 70,000 करोड़ का स्पेक्ट्रम घोटाला: काँग्रेस

मोदी सरकार में चेहतों को लाभ पहुचाने के लिए हुआ 70,000 करोड़ का स्पेक्ट्रम घोटाला: काँग्रेस-भ्रष्टाचार मुक्त भारत के निर्माण करने की बात करने वाले नरेन्द्र मोदी पर एक बार फिर घोटाले के आरोप लगे है।

राफ़ेल घोटाले के बाद मोदी सरकार पर स्पेक्ट्रम घोटाले के आरोप लगे है।

CAG की एक रिपोर्ट के हवाले से Congress ने आरोप लगाए हैं

कि मोदी सरकार के साढ़े चार साल के कार्यकाल में 3 स्पेक्ट्रम घोटाले हुए हैं।

Congress का कहना है कि सरकार ने तमाम नियमों को ताक पर रखकर अपने मित्रों को स्पेक्ट्रम आवंटित किये हैं।

जिससे सरकारी खजाने को 70,000 करोड़ का नुकसान किया है।

कांग्रेस ने लागए गम्भीर आरोप

Congress के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने दावा किया है कि मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश की धज्जियां उड़ाई हैं।

जिसमें स्पेक्ट्रम आवंटन नीलामी से करने को कहा गया है।

सरकार ने पहले आओ और पहले पाओ की नीति के तहत कुछ ‘पसंदीदा चाहेतो’ को स्पेक्ट्रम का आवंटन किया।

हालांकि CAG ने अपनी रिपोर्ट में स्पेक्ट्रम पाने वाली किसी भी कंपनी के नाम का उल्लेख नहीं किया है,

ना ही CAG ने स्पेक्ट्रम घोटाले से सरकारी खजाने को हुए नुकसान के आंकड़े पेश नहीं किए हैं।

लेकिन कांग्रेस नेता पवन खेड़ा का दावा है कि यह नुकसान करीब 69,382 करोड़ रुपए का हो सकता है।

CAG रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार ने साल 2015 में माइक्रोवेव स्पेक्ट्रम का आवंटन पहले आओ,

पहले पाओ के आधार पर किया, जबकि सरकार के पास आवंटन के लिए 101 आवेदन आए थे।

माया और अखिलेश आये साथ जीत सकते 80 में से 70 सीट

abp न्यूज और सी वोटर के सर्वे के जारी आँकड़ो की माने।

तो समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन 70 सीटो पर जीत सकता है।

जिसके बाद भाजपा और उसके सहयोगी दल मात्र 8 सीट ही जीत पायेंगे।

कांग्रेस 80 में से मात्र 2 सीटो पर ही जीत हासिल कर सकेगी।

यदि ऐसा होता है तो देश की राजनीति में बड़ा बदलाव लाएगा।

थर्ड फ्रंट की संभावना बनाने की कोशिश

उत्तर प्रदेश में यदि सपा और बसपा गठबंधन 70 सीटे जीत जाता है।

अन्य प्रदेशों जैसे बिहार, बंगाल , झारखंड आदि प्रदेशो में अन्य पार्टीया मिलकर तीसरा विकल्प बन सकती है।

गैर कांग्रेसी और गैर भाजपा दल एक नया विकल्प बन सकते है।

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन ने नवीन समीकरण को जन्म दिया है।

जिससे पूरे देश मे छोटे दलों में एक संदेश गया है।

अब देखना है कि वह कितना कारगर होता है।

ये भी पढ़े

सपा और बसपा गठबंधन 70 सीटे जीत जाता है

Sending
User Review
0 (0 votes)

Leave a Comment