SP BSP गठबंधन के बाद Congress भी BSF जवान तेज बहादुर यादव को समर्थन

SP BSP गठबंधन के बाद Congress भी BSF जवान तेज बहादुर यादव को समर्थन

SP BSP गठबंधन के बाद Congress भी BSF जवान तेज बहादुर यादव को समर्थन-अंतिम मौके पर महासंग्राम की कहानी ने एक अलग ही मोड़ ले लिया SP BSP गठबंधन ने घोषित प्रत्याशी शालिनी यादव की जगह तेज बहादुर यादव को टिकट दे दिया है।

यह बदलाव आखिरी वक्त में हुआ। जिससे अंतिम क्षण तक सस्पेंस बना हुआ था। 

काफी सस्पेंस के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ SP BSP गठबंधन ने अपना प्रत्याशी बदल दिया है।

जिसके बाद विपक्ष का दवाब congress पर भी है।कि वह तेजबहादुर को समर्थन दे।

सपा से शालिनी यादव और तेजबहादुर दोनों ने किया नामंकन

सोमवार को SP की पूर्व घोषित प्रत्याशी शालिनी यादव BSF के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव ने SP प्रत्याशी के तौर पर पर्चा भरा।

बाद में Samajwadi Party ने स्पष्ट किया कि तेज बहादुर यादव पीएम मोदी के खिलाफ उनके प्रत्याशी होंगे और शालिनी यादव बाद में अपना नामांकन वापस लेंगी। 

इससे पहले SP के प्रदेश प्रवक्ता मनोज राय धूपचंडी BSF के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव के साथ पर्चा दाखिल कराने पहुंचे।

धूपचंडी ने कहा PM मोदी के खिलाफ वाराणसी में बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव एसपी के प्रत्याशी होंगे।

धूपचंडी ने कहा कि सपा की अब तक घोषित प्रत्याशी शालिनी यादव अपना नामांकन पत्र वापस ले लेंगी।

तेजबहादुर इसके पहले भी निर्दल नामांकन कर चुके हैं।

तेजबहादुर से मिले अखिलेश यादव

तेजबहादुर ने टिकट के लिए SP अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात भी की है।

इससे पहले जब शालिनी यादव नामांकन करने के लिए कलक्ट्रेट में जुलूस लेकर पहुंचीं,

उसी समय धूपचंडी BSF के बर्खास्त जवान को लेकर नामांकन का एक सेट और दाखिल कराने पहुंच गए। दोनों प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किया है।

राजनीतिक जानकारों के अनुसार अगर समाजवादी पार्टी तेज बहादुर पर दांव लगाती है

तो इसके जरिए वह भाजपा को घेरेगी। Samajwadi Party BSF तेज बहादुर की बर्खास्तगी के मुद्दे को उठाएगी।

दरअसल, शालिनी यादव पहले पहले Congress में थीं और वाराणसी में मेयर के चुनाव में उन्हें 1. 13 लाख वोट मिले थे।

अब शालिनी के हटने पर कांग्रेसी वोटों के बंटने की आशंका कम हो जाएगी।

Sending
User Review
0 (0 votes)

Leave a Comment