समाजवादी छात्र सभा ने किया छात्र और किसान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन

समाजवादी छात्र सभा ने छात्र और किसान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन

समाजवादी छात्र सभा ने किया छात्र और किसान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन

समाजवादी छात्र सभा ने किया छात्र और किसान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन – आज समाजवादी पार्टी युथ कार्यलय में छात्र और किसान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन हुआ। 

समाजवादी पार्टी के युथ कार्यलय में आयोजित संघोष्ठी में बड़ी संख्या में छात्रो ने भाग लिया।

किसान और छात्रो पर संघोष्ठी का आयोजन छात्र सभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव के नेतृत्व में हुआ।

मुख्य वक्ता के रूप में छात्रों के विषय पर फकरुल हसन चाँद और किसानों के विषय पर नन्दलाल वर्मा जी ने अपनी बात रखी।

आयोजित संघोष्ठी का संचालन अंकित सिंह बाबू ने किया।

निरंकुश सरकार से छात्र नौजवान ही लड़ेगा: फकरुल हसन चाँद

क्रिश्चन कॉलेज लखनऊ के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष श्री
फकरुल हसन चाँद ने कहा कि आज छात्र नौजवान ही है जो ऐसी निरंकुश सरकारो से लड़ सकता है।

और लागतार लड़ रहा है। कोई दूसरा नही दिख रहा है जो इस दौर में लड़ाई लड़ रहा हो।

उन्होंने अपने व्यक्तिगक्त उदाहरण देते हुए बताया कि छात्र कभी धर्म के नाम पर नही बटता है।

हम समाजवादी सदैव अन्याय के खिलाफ़ लड़ते है एयर लड़ते रहेंगे।

छात्र नेताओं का मार्गदर्शन करते हुए उन्होंने कहा कि छात्र नेताओं को कैम्पस के मुद्दों पर लडना चाहिए।

देश मे नौजवान और किसान के मुद्दों को हिन्दू मुस्लिम के मुद्दे पर मोड़ने की कोशिश की जा रही है

हम सबको इसके खिलाफ लड़ना है साथ ही छात्रो और किसान का मुद्दा जिंदा रखना है।

किसानों के लिए कोई आयोग और नीति नही बनी है: नन्दलाल वर्मा

किसान यूनियन के नेता और आंदोलकारी नन्दलाल वर्मा जी ने
कहा की देश मे किसान आंदोलन को केंद्र सरकार पुलिस द्वारा दमन करना चाहती है।

हम किसानों की आवाज को दबाने नही देंगे।

किसान देश का भाग्य विधाता है सरकार इन किसानो की तरफ ध्यान नही दे रही है।

देश मे कर्मचारियों के लिए तो सातवें वेतन आयोग का निर्माण हो गया।

लेकिन आज़ादी के बाद किसानों के लिए कोई आयोग और नीति नही बनी है।

इस देश का दुर्भाग्य है कि यहाँ के अन्नदाता को अपने अधिकारों के लिए इस तरह संघर्ष करना पड़ रहा है।

छात्र सभा नौजवानों के बीच जायेगी और आन्दोलन तेज करेगी: दिग्विजय सिंह देव

प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव ने कहा कि किसानों के दशा के आकड़ो को देखे 

जो कि1951 से जारी होने शुरू हुए तो 1951 में 71% देश की आबादी खेती करती थी। जो आज 49% पर आ चुकी है।

लोहिया जी का जिक्र करते हुए कहते है। की किस तरह लोहिया जी आय नही व्यय पर रोक की बात करते थे।

अधिक आय को किसानों पर लगाने की बात करते थे।
जल्द ही छात्र सभा नौजवानों के बीच जायेगी और आन्दोलन तेज करेगी।

1 Comment

Leave a Comment