लखनऊ के वी आई पी मार्गो में गड्ढे ही गड्ढे, गड्डामुक्त उत्तरप्रदेश अभियान की पोल खुली

लखनऊ के वी आई पी मार्गो में गड्ढे ही गड्ढे, गड्डामुक्त उत्तरप्रदेश अभियान की पोल खुली-जहाँ भाजपा 2017 ने सत्ता आते ही पूरे प्रदेश को गड्डा मुक्त करने का नारा दिया था।

वही लखनऊ के मुख्य वी आई पी इलाको को जोड़ने वाली सड़क सरकार के दावों की पोलखोल रही है।

यह सड़क लखनऊ के गोमतीनगर और निशांतगंज जैसे इलाको को जोड़ने वाली मुख्य सड़क है।

इस सड़क पर तमाम महंगी महंगी गाड़िया दिखती चलती दिखती है।

लेकिन लगभग एक वर्ष से इस सड़क बदहाल हालात में है। इस सड़क पर आये दिन हादसे होते रहते है।

इन हादसों कई लोगो की मृत्यु भी हो चुकी है।
लेकिन सरकार जागने को तैयार नही है।

इस बात से योगी सरकार के विकास दावे की पोल खुल रही है।

जब प्रदेश की राजधानी के वी आई पी मार्गो की यह दशा तो पूरे प्रदेश की दशा के बारे में बात करना ही बेईमानी है।

कई विभागों के मुख्य ऑफिस को जोड़ती है

इसका हाल पिछले कई महीनों से बेहाल है पुरी रोड खुदी हुई है जिसकी सुध किसी को नहीं है।

इसको पार करके ही नगर निगम का मेन आॅफिस, लखनऊ विकास प्राधिकरण, पासपोर्ट एवम कई अन्य ऑफिस इस रोड को पार करके ही दिख जाते है।

इस रोड पर निशांतगंज पेपर मिल कॉलोनी, मेट्रो सिटी जैसे वी आई पी आवासीय परिसर भी है।

ये वह गड्डायुक्त सड़क है जिससे दिनभर में मर्सिडीज से लेकर आॅडी और जैगवार से लेकर महंगी से महंगी गाड़ियां गुजरती हैं।

निखिल कन्नोजिया जी ने बताया

जब कोई बाहर से लखनऊ आता है तो उसे इस सड़क से जूझते हुए जाने का कुअवसर मिलता है।

तो उसके मन में लखनऊ या प्रदेश की यही छवी जाती है

इसके कुछ ही आगे आपको पुलिस चालान करते मिल जाएगी।

जिससे खजाना भर सके जब जनता से चालान के नाम पर पैसा ऐंठा जा रहा है।

तो उनको इन सड़कों पर से जूझते हुए दुर्घटना का जिम्मेवार कौन है

क्योंकि चालान तो खूब काट रहे हो थोड़ी सी गलती पर

तो इन खुदी सड़कों से होने वाले नुकसान का चालान जनता किसका काटे ?

यह भी पढ़े

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन

1 Comment

Leave a Comment