लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र हुआ चोटिल

लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र हुआ चोटिल

लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र हुआ चोटिल

लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र हुआ चोटिल-आज लखनऊ विश्वविद्यालय में एक घटना ने सबको सोचना पर मजबूर कर दिया। कि लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रो के प्रति कितना संवेदनशील है। आज लखनऊ विश्वविद्यालय में एक छात्र के साथ दुर्घटना हो गई। छात्र जब लखनऊ विश्वविद्यालय में लोक प्रशासन विभाग से बहार आ रहा था।

तभी क्षतिग्रस्त इमारत का कुछ हिस्सा छात्र पर गिर जिससे उसके सिर में गम्भीर चोट आयी। छात्र के सिर खून बहने लगा। जब उसके सहपाठियों और अन्य लोगो ने उसे उठाकर देखा। तो उसको गम्भीर छोटे थी। अतः सभी लोगो ने पहले लखनऊ विश्वविद्यालय की एम्बुलेंस बुलाने का प्रयास किया। लेकिन जब एम्बुलेंस नही आ पाई। तो कुछ छात्रों ने प्रॉक्टर विनोद सिंह को काल करके। सहायता मंगाने का प्रयास किया। लेकिन प्रॉक्टर महोदय ने काल नही उठाया। तब वहाँ लोगो ने 108 एम्बुलेंस बुलाकर। दुर्घटनाग्रस्त छात्र को उपचार प्रदान किया।

छात्रो को प्राथमिक उपचार भी नही उपलब्ध नही

लखनऊ विश्वविद्यालय में ऐसी घटनाएं होना। आम हो गयी है। यह घटना प्रकाश में इसीलिए आ गयी क्योंकि प्रशासनिक भवन और गेट 1 के पास की थी। लेकिन के ऐसी घटनाएं भी है। जो लखनऊ विश्वविद्यालय में सामने नही आ पाती है। छात्रो के उपचार के लिए बने क्लीनिक होने है। लेकिन छात्रो को प्राथमिक उपचार भी नही उपलब्ध नही है। जल्द ही लखनऊ विश्वविद्यालय ने एम्बुलेंस की खरीद की है। लेकिन वह छात्रों की सुविधा में नही उप्लब्ध है। उनका क्या काम है। शायद कुलपति और प्रॉक्टर महोदय ही बता पाए।

लखनऊ विश्वविद्यालय बीए, बीकॉम, बीएससी परीक्षा ऑनलाइन फार्म

संचालक की रक्षा करने के लिए प्राइवेट गॉर्ड

छात्रो से बात करने पर छात्रो ने बताया कि लखनऊ विश्वविद्यालय में क्लीनिक होने के बावजूद उसमें किसी भी प्रकार से संतोषजनक सुविधा नही उपलब्ध है। छात्रो को प्राथमिक उपचार के लिए भी बाहर जाना पड़ता है।

कुछ छात्रो ने कहा कि कुलपति जी बड़ी बड़ी बाते तो कर रहे है। लेकिन विश्वविद्यालय में मेस के खाने से लेकर परीक्षाओ तक सब भगवान भरोसे है।

मेस में संचालक की रक्षा करने के लिए प्राइवेट गॉर्ड रखे है। लेकिन छात्रो की सुरक्षा से उनको कुछ लेना देना नही है।

Sending
User Review
0 (0 votes)

Leave a Comment