महाराष्ट्र में किसान ने किया अनोखा विरोध

महाराष्ट्र में किसान ने किया अनोखा विरोध

महाराष्ट्र में किसान ने किया अनोखा विरोध-महाराष्ट्र में प्याज की खेती करने वाले एक किसान को अपनी फसल की लागत से 1 किलोग्राम से कुछ अधिक की दर पर बेचनी पड़ी।

इसके बाद किसान ने विरोध दर्ज कराने के लिए अपनी कमाई प्रधानमंत्री को भेज दी।

जिला नासिक के तहसील निफाड निवासी संजय साठे उन प्रगतिशील किसानों में से एक हैं।

जिन्हें केंद्र सरकार ने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा से साल 2010 में उनकी भारत यात्रा के दौरान संवाद के लिए चुना था।

प्रति किलो पर मात्र 1 रु का ही लाभ हुआ

संजय ने रविवार को मीडिया वार्ता में कहा,

“मैंने इस सीजन में 750 किलोग्राम प्याज उपजाये लेकिन पिछले सप्ताह थोक बाजार में 1 रूपये प्रति किलोग्राम की दर की पेशकश की गई।

आखिर में 1.40 रूपये प्रति किलोग्राम का सौदा तय हुआ।

मुझे 750 किलोग्राम के लिए 1064 रूपये प्राप्त हुए।

 

50 % से अधिक प्याज भारत में उत्तर महाराष्ट्र से उत्पाद होता है।

उचित मूल्य न मिलने से हताश संजय ने कहा,
“4 माह के परिश्रम के बाद मामूली वापसी प्राप्त होना दुःखद है।

इसलिए मैंने 1064 रु pmo के आपदा राहत कोष में दान कर दिये।

राशि मनीऑर्डर से भेजने के लिए 54 रूपये अलग से देने पड़े।

 

खेती के तरफ सरकार की उदासीनता के कारण नाराज हूँ

मैं किसी राजनीतिक पार्टी का प्रतिनिधित्व नहीं करता।

लेकिन मैं खेती के तरफ सरकार की उदासीनता के कारण नाराज हूँ।

मनीऑर्डर 29 नवंबर को भारतीय डाक द्वारा भेजा गया।

डाक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम भेजा गया है।

नासिक भारत मे प्याज का सबसे बड़ा उत्पादक है।

 

 

किसान मुक्ति मार्च पहुँचा रामलीला मैदान किसानों ने भरी हुँकार

किसान मुक्ति मार्च पहुँचा रामलीला मैदान किसानों ने भरी हुँकार

किसान मुक्ति मार्च पहुँचा रामलीला मैदान किसानों ने भरी हुँकार-किसान मार्च आज पहुँचा रामलीला मैदान। स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की मांग कर रहे है।
मोदी सरकार की किसान विरोधी नीतियों से नाराज है।किसान मुक्ति मार्च मुख्य मुद्दा कर्जमाफी और फसलों की लागत का डेढ़ गुना मुआवजा चाहते हैं।

Embedded video

Suchi Soundlover@suchiseetharam

demanding MSP, special parliament session in Delhi today.
PC : @rc5885

Leave a Comment