बलिया चंद्रशेखर विश्वविद्यालय दींक्षात समारोह में उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा का हुआ विरोध

बलिया चंद्रशेखर विश्वविद्यालय दींक्षात समारोह में उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा का हुआ विरोध

बलिया चंद्रशेखर विश्वविद्यालय दींक्षात समारोह में उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा का हुआ विरोध-बलिया के जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय में दींक्षात समारोह का आयोजन हुआ।

जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और राज्यपाल राम नाईक उपस्थित थे।

विभिन्न महाविद्यालय के छात्र नेता उपमुख्यमंत्री और राज्यपाल से मिलकर जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय की दयनीय दशा को लेकर अवगत कराना चाहते थे।

युवजन सभा के प्रदेश महासचिव अरविंद गिरी के साथ बलिया जिले के विभिन्न महाविद्यालय के छात्र नेता प्रभुनाथ यादव,सौरभ यादव, बब्लू यादव, रितेश मिश्रा, मनन दुबे,आशुतोष ओझा, कृष्णा बाबू यादव, मिंटू यादव, रोहित चौबे आगे बढ़ रहे थे।

तभी पुलिस द्वारा उनको रोका गया और बलपूर्व गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि देर रात सभी को छोड़ दिया गया।

क्या है पूरा मामला

आपको बता दे कि जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय की नीव 2 मई 2017 को अखिलेश यादव की सरकार में रखी गयी थी।

तब अखिलेश यादव सरकार ने 10 करोड़ का बजट जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय आवंटित किया था।

लेकिन आचारसंहिता के कारण पूरा बजट आवंटित नही हो पाया था।

जिसके बाद जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय का संचालन चंद्रशेखर जी द्वारा निर्मित शहीद भवन में शुरू हो गया था।

लेकिन उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने
जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय आंखे फेर ली।

जिसका परिणाम यह हुआ कि अखिलेश सरकार में आवंटित बजट में से 2 करोड़ ही योगी जी द्वारा जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय को जारी किया गया।

जिसका परिणाम यह है कि जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय जर्जर ईमारत में संचालित है और नवीन निर्माण भी नाम मात्र है। कर्मचारियों की भारी कमी है।

इन ही सब मुद्दों को लेकर युवजन सभा के प्रदेश महासचिव अरविंद गिरी के साथ बलिया के विभिन्न महाविद्यालय के छात्र नेता मुख्यमंत्री को ज्ञापन देन चाहते थे।

युवजन सभा के प्रदेश महासचिव अरविंद गिरी ने कहा

युवजन सभा के प्रदेश महासचिव अरविंद गिरी ने कहा कि देश के प्रथम समाजवादी प्रधानमंत्री जननायक चंद्रशेखर जी के नाम पर मा अखिलेश यादव जी ने विश्वविद्यालय बनाकर।

बलिया जैसे पिछड़े जिले को वरदान के रुप में विश्वविधालय देने का काम किया था।

लेकिन उत्तर प्रदेश में जैसे ही सत्ता परिवर्तन हुआ वैसे ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बलिया और पूर्वाचल से सौतेला व्यवहार दिखाते हुए।

जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय को बजट आवंटित नही किया और दूसरा जो अखिलेश यादव जी सरकार में बजट दिया था उसे भी झीन लिया।

इसी मुद्दे को लेकर बलिया के विभिन्न महाविद्यालय के छात्र नेताओं के साथ हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने जा रहे थे।

तभी पुलिस ने पहले अभद्रता पूर्व हमे रोका उसके बाद बिना कुछ सुने हमे बलपूर्वक गिरफ्तार कर लिया।

इस सरकार में अघोषित आपातकाल जैसी दशा हो गयी है।

किसी को अपनी बात रखने का हक नही है।
यदि आप सरकार को आईना दिखायेंगे तो जेल भेज दिए जायेंगे।

लेकिन समाजवादी नौजवान जेल और लाठी से ना डर न डरेगा।

Sending
User Review
4.5 (2 votes)

Leave a Comment