Indian share bazar से विदेशी निवेशक अपना पैसा निकाल रहे है

Indian share bazar से विदेशी निवेशक अपना पैसा निकाल रहे है

Indian share bazar से विदेशी निवेशक अपना पैसा निकाल रहे है

Indian share bazar से विदेशी निवेशक अपना पैसा निकाल रहे है-अगस्त में कारोबारी सत्र के दौरान दौरान ही उसने बाजार से 9,196 करोड़ रुपये निकाल लिए हैं।

घरेलू अर्थव्यवस्था में गिरावट और अंतरराष्ट्रीय हालातों में सुधार न होने की वजह से

विदेशी निवेशक Indian share bazar से दूर होते जा रहे हैं।

विदेशी निवेशकों के दूर होने से share bazar में चिंता बढ़ी है

लेकन विश्लेषको का कहना है ऐसे हालात ज्यादा दिनों तक नहीं रहेंगे।

जैसे ही सरकार FPI यानी Foreign Portfolio Investment पर लगाए गए

taxe को कम करेगी या इन्हें खत्म करेगी वैसे ही विदेशी निवेशक बाजार में लौटने लगेंगे।

Taxe में बढ़ोतरी बड़ा कारण FPI

हालांकि के डिपोजिटरी आंकड़ों के मुताबिक Foreign Portfolio Investment ने 1 से 9 अगस्त को share से 11,134.60 करोड़ रुपये निकाल लिए।

जबकि इस दौरान इसने सिर्फ 1,937.54 करोड़ रुपये डेट में लगाए।

देखा जाए तो FPI ने कुल 9,197.06 करोड़ रुपये निकाल लिए।

पिछले महीने FPI ने इक्विटी और डेट मार्केट दोनों में 2,985.88 करोड़ रुपये की बिकवाली की थी।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस बार के बजट में ट्रस्ट और

एसोसिएशन पर्सन्स के तौर पर रजिस्टर्ड FPI पर टैक्स बढ़ाने के ऐलान के बाद ही विदेशी निवेशक बिकवाली कर रहे हैं।

अंतर्राष्ट्रीय और धरेलू अर्थव्यवस्था में गिरावट बड़ी चिंता का विषय

Financial service के research Head विनोद नैयर ने कहा कि अर्थव्यवस्था में गिरावट को लेकर FPI काफी सतर्कता बरत रहे हैं।

America, यूरोप और चीन तीनों जगह GDP ग्रोथ की रफ्तार कम हुई है।

china और America के बीच ट्रेड वॉर से हालात और खराब होने की आशंका है।

Bregit का मामला न सुलझने और दूसरे भू-राजनैतिक मुद्दों की वजह से भी ग्लोबल इकनॉमी सुस्त रहने के आसार है।

Morning star में Research के senior analysist manager Himanshu Srivastva ने भी कहा है

कि आर्थिक गतिविधियों में साफ तौर पर गिरावट दिख रही है।

मानसून की कमी, कंपनियों के खराब नतीजे

china और America के बीच ट्रेड वॉर और iran समस्या से भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए दिक्कतें बढ़ी हैं।

हालांकि सरकार की ओर से टैक्स घटाने के संकेतों के बाद FPI के बाजार में लौटने की उम्मीद पैदा हुई है.

Leave a Comment