देश आर्थिक बेरोजगारी संकट में , पढे उद्योगपतियो के बयान

देश आर्थिक बेरोजगारी संकट में , पढे उद्योगपतियो के बयान

देश आर्थिक बेरोजगारी संकट में , पढे उद्योगपतियो के बयान-Larsen & Toubro ( L&T) के chairman AM Naik के इकोनॉमी पर अपनी चिंताओं को सार्वजनिक करने के बाद अब

HDFC के chairman deepak ने भी कहा है कि इकनॉमी संकट के दौर से गुजर रही है।

उन्होंने इकनॉमी में स्लोडाउन की अहम वजह नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों,

हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों और बैंकों में लिक्विडिटी में कमी को बताया है।

मतलब इन संस्थानों के पास कर्ज देने के लिए पूंजी नहीं है और यही इकनॉमी में धीमेपन की वजह है।

कर्ज देने से झिझक रहीं नॉन बैंकिंग हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां

HDFC के chairman deepak parekh की चिंता

एनुअल जनरल मीटिंग यानि एजीएम में दीपक पारेख ने कहा कि

इकनॉमी में स्लोडाउन की वजह बाजार में लिक्विडिटी का न होना है।

दरअसल ज्यादातर बड़ी हाउसिंग फाइनेंस और नॉन बैंकिंग

हाउसिंह फाइनेंस कंपनियां कर्ज देने से झिझक रही हैं।

कर्ज न मिलने की वजह से कई सारे सेक्टर की कंपनियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा है।

दीपक पारेख के मुताबिक ‘इस वक्त की सबसे बड़ी जरूरत है।

कि देनदारों के विश्वास को बहाल किया जाए।इसी से हालात सुधरेंगे।

अभी बैंक कर्ज देने में हिचक रहे हैं. कुछ ही चुनिंदा लोगों को फंडिग मिल पा रही है.’

हालांकि दीपक पारेख ने उम्मीद जताई है कि त्योहारों का मौसम पास आते-आते हालात बेहतर होंगे।

Larsen & Toubro ( L&T) के chairman की अर्थव्यवस्था को लेकर चिंतित

इसके पहले इंफ्रा और ऑटो सेक्टर की नामी गिरामी कंपनी Larsen & Toubro ( L&T) के chairman

A M Naik ने भी भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत पर चिंता जताई थी।

उन्होंने कहा था कि हम 6.5 परसेंट की जीडीपी ग्रोथ भी हासिल कर लें तो भाग्यशाली होंगे।

उन्होंने इस आर्थिक मंदी के समाधान के तौर पर कहा कि

अटके हुए प्रोजेक्ट को वैसे हल किया जाना चाहिए,

जैसे नरेंद्र मोदी बतौर गुजरात के मुख्यमंत्री किया करते थे।

मांग, न निवेश, क्या आसमान से गिरेगा विकास-Bajaj auto के चेयरमैन Rahul Bajaj

पिछले दिनों auto sector की टॉप कंपनियों में शुमार

Bajaj auto के चेयरमैन Rahul Bajaj ने केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों पर निशाना साधा था।

इसके साथ ही उन्‍होंने ऑटो इंडस्‍ट्री के बिगड़ते हालात पर भी चिंता जाहिर की।

Bajaj auto की सालाना आम बैठक में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए

Rahul Bajaj ने कहा कि मुश्किल हालातों से गुजर रहे auto sector के लिए क्या विकास आसमान से गिरेगा? ”

सरकार कहे या न कहे लेकिन आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक के आंकड़े बताते हैं

कि पिछले तीन-चार सालों में विकास में कमी आई है।

दूसरी सरकारों की तरह वे अपना हंसता हुआ चेहरा दिखाना चाहते हैं, लेकिन सच्चाई यही है।”

Taxe trereisom कैसे देश बनेगा 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था-T V Mohandas pai

देश के जाने-माने उद्योगपति T V Mohandas pai ने कहा था

कि आज टैक्स टेररिज्म से देश का कॉरपोरेट वर्ल्ड डरा हुआ है।

कॉफी कैफे डे के फाउंडर की मौत के बाद उन्होंने कहा था

कि भारत को 2050 तक पांच ट्रिलियन डॉलर की इकनॉमी बनना है।

लोगों को निवेश करना है। काफी काम करना है। बिजनेस को आगे बढ़ना है।

लेकिन आज सरकार की नीतियों की वजह से इकनॉमी में स्लोडाउन का खतरा पैदा हो गए हैं।

बिजनेसमैन में टैक्स टेरर है।वे कारोबार करने से डर रहे हैं

Pradeep shah इकोनॉमिक ग्रोथ में स्लोडाउन

शाह ने कहा कॉरपोरेट नतीजों से साफ है कि देश में इकनॉमिक स्लोडाउन है

ind asia fund advisor प्रदीप शाह ने भी इकनॉमी की खराब होती हालत पर चिंता जताई है।

उनका कहना है कि पहली तिमाही के कॉरपोरेट नतीजों से साफ है कि ग्रोथ में स्लोडाउन है।

उन्होंने कहा सरकार को बिजनेस आसान बनाने में आने वाली अड़चनों को दूर करना होगा।

उनका यह भी कहना था कि RBI की मौद्रिक नीति का इकनॉमी के ताजा हालत से कोई तालमेल नहीं है।

ऊपर से मानसून की बारिश ने स्थिति और खराब कर दी है।

Leave a Comment