अयोध्या धर्मसभा की वायरल फोटो का सच

अयोध्या धर्मसभा की वायरल फोटो का सच

अयोध्या धर्मसभा की वायरल फोटो का सच-अयोध्या में आज धर्मसभा का आयोजन हुआ।धर्म संसद को लेकर विश्व हिंदू परिषद के दावे सही नहीं साबित हुए हैं। पहले दावा किया जा रहा था कि इस संसद में दो से तीन लाख लोग शामिल होंगे, लेकिन अयोध्या पहुंचने वालों की संख्या कुछ हज़ारों में बताई जा रही है।

पुलिस विभाग द्वारा ड्रोन ली गयी। तस्वीरों में भीड़ बेहद कम नजर आ रही है। मैदान खाली नजर आ रही है। यह तस्वीरे जब वायरल हुई। तो समर्थकों ने उसे झूठा बतलाया। लेकिन यह सही तस्वीरे है। इसको ए डी जे लॉ एंड आर्डर ने मीडिया में साझा की है।

राम मंदिर बनाने के लिए सरकार अध्यादेश लाए

अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद ने धर्म संसद के अपने आयोजन में केंद्र सरकार से अपील की है कि राम मंदिर बनाने के लिए सरकार अध्यादेश लाए।

वहीं दूसरी ओर इस संसद में भाग लेने पहुंचे शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर मंदिर नहीं बनता है तो बीजेपी सत्ता से बाहर होगी।

अगली सुनवाई अगले साल जनवरी में होगी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा फ़िलहाल सुप्रीम कोर्ट में है, जिसमें अगली सुनवाई अगले साल जनवरी में होगी।

यही वजह है कि धर्म संसद के आयोजन के दौरान शहर की सड़कों पर उतनी भीड़ नहीं दिखी, जिसके दावे किए जा रहे थे।

वैसे शहर में सुरक्षा व्यवस्था के लिए रैपिड एक्शन फ़ोर्स की पांच कंपनियां, पीएसी की 42 कंपनी और 1000 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

युवाओ ने कहा हमे रोजगार चाहिए

सोशल मीडिया में नौजवानो कहा कि हमे मंदिर नही पहले रोजगार चाहिए। बिना नौकरी और आय के प्रभु राम को सेवा कैसे करेंगे।

कुछ नौजवान ने कहा आप हमें रोजगार दो हम मंदिर घर घर बना लेंगे।

यह सिर्फ चुनावी मुद्दा है। यदि राम जी इतना ही प्रेम था। तो अध्यादेश लेकर आ जाते ।

राम जन्मभूमि जाने पर रोक

Leave a Comment