कुछ नयी पुरानी खट्टी-मीठी यादें, अखिलेश यादव की पुरानी फोटो

कुछ नयी पुरानी खट्टी-मीठी यादें, अखिलेश यादव की पुरानी फोटो

कुछ नयी पुरानी खट्टी-मीठी यादें ये फोटो मैंने सन 1995 में खींचा था, रमजान के महीने में मुस्लिम लोगों  द्वारा सारा दिन रोजा (उपवास) रखने के बाद शाम को एक साथ रोजा खोलने की और सामूहिक रूप से नाश्ता पानी करने की परंपरा हैं उन मुस्लिम भाइयों के सम्मान में कुछ लोग अपने खास मित्रों को अपने निवास पर बुलाकर उन्हें रोजा इफ्तार करवाते है ये परम्परा धीरे धीरे उत्तर प्रदेश के राज्यपाल, मुख्यमंत्री और अन्य कुछ मंत्रियों के यहाँ पर भी बन गए थी। लेकिन जब श्री मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री बने तो उन्होंने अपने ख़ास मुस्लिम मित्रों के अलावा अन्य मुसलमान भाइयो के लिए भी अपने आवास के दरवाजे खोल दिए थे

अखिलेश यादव की पुरानी फोटो – कुछ नयी पुरानी खट्टी-मीठी यादें

काफी भारी संख्या में लोग आये मुलायम सिंह जी की कोठी के बाहर सड़क पर जो भीड़ का रेला आ रहा था उसको देखकर एक बार तो सभी हक्के बक्के रह गए , ऐसे लगा जैसे कि आज पूरा लखनऊ शहर ही रोजा इफ्तार करने आ रहा है पुलिस और सुरक्षा कर्मियों के लिए तो ये बड़े इम्तेहान की घड़ी थी कि आने वाले मेहमान भी नाराज न हों और सुरक्षा व्यवस्था भी बनी रहे  खैर लोगों को इसी बात की बड़ी ख़ुशी थी  कि पहली बार एक मुख्यमंत्री ने हम सबको बुलाकर हमारा सम्मान किया है

अखिलेश यादव व्हाट्सप्प नो

इसी भीड़ में एक अनजान सा युवा मेहमान भी घूम रहा था जिसे बहुत कम लोग पहचानते थे और वो भी दूर-दूर से घूम कर सारा नजारा देख कर मजे ले रहा था जिन्हें वो पहचानता था उनसे वो रुक कर मिल भी लेता था उस दिन मैंने किसी काम से अपने छोटे भाई “मानसरोवर शर्मा” और मेरा बड़े बेटे “मोहित शर्मा ऋषि” को अपने ऑफिस बुलाया था वहीं से मुझे इस रोजा इफ्तार के कार्यक्रम के बाद कहीं और भी जाना था .. 

चूँकि वहाँ का दृश्य एक मेले जैसा था लिहाजा मैं इन्हे भी इस रोजा इफ्तार में ले गया इसी मेले में मुझे वो युवक भी दिख गया तो मैंने अपने भाई और बेटे को उस युवक से मिलवाया और उन सबका एक यादगार फोटो भी खींचा, वही युवक बाद में इस प्रदेश का मुख्यमंत्री भी बना जिसका नाम है श्री अखिलेश यादव आज वही फोटो मैं आप सबके साथ शेयर कर रहा हूँ फोटो में  सबसे बाएं श्री अखिलेश यादव, बीच में मेरा छोटा भाई मानसरोवर शर्मा, और उनके आगे खड़ा मेरा बड़ा बेटा मोहित शर्मा ऋषि तथा एक अन्य व्यक्ति 

 ~ मनमोहन शर्मा ~

इसे जरुर पढ़े

Leave a Comment