हाईकोर्ट 69000 प्राथमिक शिक्षक भर्ती पर सुनाया फैसला पूर्व की कट ऑफ लागू

हाईकोर्ट 69000 प्राथमिक शिक्षक भर्ती पर सुनाया फैसला पूर्व की कट ऑफ लागू

हाईकोर्ट 69000 प्राथमिक शिक्षक भर्ती पर सुनाया फैसला पूर्व की कट ऑफ लागू-हाईकोर्ट की लखनऊ खण्ड पीठ ने 69000 प्राथमिक शिक्षक भर्ती पर लम्बित जचिका पर फैसला सुनाया।

लम्बित जचिका पर फैसला करते हुए 69000 प्राथमिक / सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा मे बाद मे लगाये गये।

60/65 पासिंग मार्क को अवैध माना एवम पूर्व में जिस आधार पिछली भर्ती परीक्षा का पासिंग मार्क 40/45 को सही माना।

पासिंग मार्क 40/45 पर 69000 प्राथमिक/सहायक शिक्षक भर्ती को पूरा करने का आदेश उत्तर प्रदेश सरकार को दिया।

पढ़े क्या है पूरा मामला

6 जनवरी 2019 को प्राथमिक शिक्षक भर्ती परीक्षा का आयोजन हुआ था।

किंतु सरकार द्वारा जो भर्ती के लिए आदर्श कट ऑफ जारी की गई।

उस शिक्षा मित्रों द्वारा आपत्ति दर्ज कराई गई। लेकिन जब सरकार ने शिक्षा मित्रों की बात नही सुनी तो शिक्षा मित्रों ने न्यायालय की शरण ली।

जिस पर इलाहाबाद न्यायालय की लखनऊ खण्ड पीठ ने 18 जनवरी को शिक्षा मित्रों और सरकार दोनों का पक्ष सुना।

लेकिन सरकार अपनी पुरानी कट ऑफ पर टिकी रही है। जिसके पीछे सरकार का तर्क शिक्षा की गुणवत्ता था।

लखनऊ खंडपीठ में सुनाई चल रही थी।

जिसकी फटकार सर्वोच्च न्यायालय पहले भी उत्तर प्रदेश सरकार को लगा चुका है।

इस बात का हवाला उत्तर प्रदेश सरकार ने न्यायालय को दिया।

इस मुद्दे एवम प्राथमिक शिक्षक भर्ती परीक्षा अभ्यर्थियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए।

मा न्यायालय के न्यायाधीश श्री राजेश चौहान की बेंच में सरकार की तरफ़ से प्रशांत चंद्रा ने और शिक्षा मित्रों की तरफ यू एन मिश्रा ने पक्ष रखा।

मा न्यायालय ने विशेष रुचि लेते हुए इस मामले की डेलिबेसिस लगाकर सुनाई की।

काफी समय से 69000 सहायक शिक्षक भर्ती का परिणाम का इंतजार

एक माह की निरंतर सुनवाई के बाद 22 फरवरी को मा न्यायालय द्वारा फैसले को सुरक्षित कर लिया गया था।

फैसले को सुरक्षित के बाद शिक्षक भर्ती परीक्षा अभ्यर्थियों को एक माह सात दिन का लंबा इंतजार करना पड़ा।

जिसके बाद इस मामले पर जो फैसला गत माह की 22 तारीख को सुरक्षित किया गया था।

वह फैसला 29 मार्च 2019 को दोनों के समक्ष फैसला सुनाया जाना था।

जो फैसला आज 69000 सहायक शिक्षक भर्ती पर सुना दिया गया।

Sending
User Review
0 (0 votes)

Leave a Comment